Monday, March 7, 2011

मुझे माता की चुनरी से खेलना है

4 comments:


  1. इत्ता प्यारा खिलौना दिया परवरदिगार ने आपको ...बधाई देता हूँ दीपक आप दोनों को ! इनकी यह निश्छल मुस्कान बहुत कीमती है इसे सहेज कर रखना ...बुढापे में बहुत काम आएगी :-))

    हर माह यह फोटो लेते रहिएगा, बचपन फिर नहीं मिलता !
    होली की शुभकामनायें आपको !!

    ReplyDelete